Posts by admin@gmail.com

प्रकृति का नियम

गुप्त ओर गहरा ज्ञान यह कि देने का नाम ही जीवन……
देने के लिए प्रकृति ने रखा रचा बीजों का चयन …….


इस जीवन को दे झोंके अपनी क्षमता का सर्वोत्तम …….
गहरा ज्ञान ये जो देंगे वो होता कई गुणा ये प्रकृति का नियम ।

खुशियां

खुशियां का न तो कोई गंतव्य ,अधिकार कमाई, न इसे पहने न ही ये भोजन…..
ये एक आध्यात्मिक अनुभव जीवन के हर क्षण में प्रेम कृपा का आभार में लिप्त मन ।


कृपा ओर आभार से लिप्त मन सब के लिए शुभ ओर हितकारी…..
व्यक्ति विकास से होगा समाज का विकास मनुष्यता के लिए श्रेष्ठ शुभकारी ।

जिम्मेदारियां

ये जिम्मेदारियां ही हे जो आपको बनाती मजबूत ओर परिपक्व……
परिपक्वता का आयु से कुछ लेना नही ये आती जब जगता अनुभव….


जिम्मेदारियां और अनुभव आपस में हे तालमेल हे जिगरी मित्र…..
जिम्मेदारियां बुरी नही उनके प्रति सोच संवारती आपका चरित्र।

मित्र

एक मित्र जो समझे आपके आंसुओ को भी वो बहुत ही नयाब….
बाकी मित्र सिर्फ देखे जाने आपकी हंसी खुशी का रखते वो हिसाब….


असली मित्र वही जो आपके अच्छे बुरे दोनों पक्षों को जाने समझे दे साथ…
बाकी मित्र दुनियादारी वाले सिर्फ़ नाम के, मित्र वही जो दुखो में रखे सिर पर हाथ ।

जीवन के प्रश्न ओर उत्तर

जीवन यदि प्रश्नपत्र तो संघर्ष उसका सही उत्तर…..
संघर्षों से ही वक्तित्ब में आए निखार जीवन हो बेहतर…


जीवन में द्वंद ओर संधर्षो की चुनौती को स्वीकारे…
संघर्ष एकमात्र उत्तर उसकी ऊष्मा उर्जा ही जीवन सुधारे ।

साक्षी भाव

जीवन को जीने के लिए
जीवन आपको बहुत कुछ सिखाता है
क्या है वो? और क्या है ?
अब इस समय उस समय की मांग
जब आप कुछ समझना चाहते हो परन्तु आपको कुछ समझ नहीं आ रहा हो और जवाब मांगने पर भी जवाब नहीं मिल रहा हो तो क्या करना चाहिए ?
यहां
अब बस एक काम कीजिए चुप होकर बैठ जाए और देखिए हो क्या रहा है यह जीवन किस प्रकार से संचालित हो रहा है किस तरह से
स्तिथि ओर परिस्थिति यह दोनों मिलकर आपको समझाना शुरु करेगी
अब आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है बस ठहरिए ,
इधर उधर मत भागिए बस देखिए बैठकर यही क्युकी अब यही
समय की मांग है।
जिसे हम यह भी कह सकते है जो हो रहा है उसे जागरूकता के साथ देखो , साक्षी भाव में देखो , ध्यानपूर्वक देखो
अब प्रकृति आपको स्वयं ही सबकुछ बताना शुरू कर देगी
आपके आसपास की घटनाओं के माध्यम से , पेड़ पोधों से , लोगो से , हवाओं से , ध्वनियों से हर उस चीज से आपको समझ आना शुरू हो जाता है जब आप शांत होकर बैठ जाते है शोर में , भागने में आपको कुछ समझ नहीं आता कि यह सब क्यों हो रहा है परन्तु जब शांत , मौन बैठ जाते है तब आप अपने भीतर की गहराई में उतर जाते है ओर आप उस गहराई से समझने लगते है यह सब कैसे हो रहा है आपको आपका आसपास का वातावरण समझने लग जाता है।

Covidshield Vs covaccine

कौनसी vaccine अच्छी है यह भी हम सभी के मन में एक प्रश्न बना हुआ है लेकिन मै आपके लिए यह साफ कर देना चाहता हूं कि सरकार द्वारा दी जा रही दोनों ही vaccine अच्छी है जिस पर आप पूरा भरोसा करे ओर टीका लगवाए

बिना किसी बहकावे में आए जो vaccine उपलब्ध हो उसे लगवाए ओर स्वयं को सुरक्षित करें

आज 31May को मैने covidshield का टीका लगवाया…अब अगली डोज लगभग 75 दिन के बाद लगेगी ओर वह भी covidshield की ही होगी इसमें भी कुछ लोगो को गलतफहमी हो जाती है कि दूसरी डोज कोई ओर लगा सकते है लेकिन ऐसा नहीं है जो डोज आपको पहली लगी है वहीं दूसरी भी लगेगी।

अभी तक तो ना ही मुझे कजरी महसूस हो रही है ना ही कुछ ओर आपको डॉक्टर सलाह देते है अगले 5 दिनों तक आप किसी के संपर्क मे ना आए , घर से बाहर ना जाए , अल्कोहल का सेवन ना करे , सिगरेट का सेवन भी नहीं करे , अन्य कोई दवाई भी ना लेे , जिस जगह टीका लगाया गया उसे रगड़े नहीं सिर्फ रूई को वहीं पर दबाकर रखे। यदि बुखार आए तो सिर्फ paracitamol ही इसके अलवा कुछ नहीं ले

हम सभी सिर्फ यही सोचते है की टीका लगवा अब सब ठीक रहेगा मै बाहर घूमता हूं मुझे कुछ नहीं होगा लेकिन डॉक्टर ने यह सब भी बताया है उसका भी तो पालन कीजिए बेफिजूल में बाहर ना घूमिए।

मै अपना अनुभव शेयर करता हूं मुझे 1 पूरा दिन बुखार रहा ओर हाथ पैरो में तेज़ दर्द भी रहा यह एक अप्राकृतिक बुखार था जिसे एक vaccine की वजह आना हुआ अन्यथा इस बुखार का कोई मतलब नहीं हमारी जिंदगी में

दूसरों के बहकावे में ना आए अपनी अक्ल लगाए ओर टीकाकरण जल्द से जल्द कराए।

एकला चलो रे

कभी ये मन में मत सोचिए आप अकेले हे……
सोचो की आप अकेले ही काफी, सही राह पे हे….


सोच की जब दिशा सही तो फिर नही मन में लाए संशय…
और व्यक्ति भी जरुर जुड़ेंगे मन में जब होगा पक्का निश्चय ।

रिश्ते

सुंदर प्यारे रिश्तो पर नहीं होती कोई नियम और शर्ते लागू….
इसमें चलता फलता दो अदभुत व्यक्त्तिव का बुना हुआ जादू….


इसमें विश्वास की डोर और आपसी समझ का ढांचा होता मज़बूत….
अदभुत रिश्ते पनपते जहां विश्वास ओर समझ बाकी सब बांते झूठ ।

समस्या और समाधान

समस्या ओर समाधान कि बात की जाए तो बेहतर है यदि सिर्फ समस्या ही गिनते रहेंगे तो आप एक दिन समस्यायों को इतना बड़ा कर लेंगे की फिर उभर नहीं पाएंगे।

इसलिए यदि समस्या है तो उसका समाधान भी अवश्य है इसलिए साथ साथ उसको भी बताए सुझावों की सूची बनाएं

सुझाव दीजिए तभी आप सशक्त होंगे तभी हम बेहतर बन पाएंगे।