सुपर 30 फ़िल्म पर आधारित कुछ विचार

इस फ़िल्म में कुछ लोग ऐसा कह रहे है की ह्रितिक रोशन बिल्कुल भी आनंद कुमार से मेल नही खाते लेकिन क्या शक्ल मिलनी जरूरी है?Super 30

ह्रितिक रोशन ने सुपर 30 में बेहतरीन एक्टिंग की है। अब से पहले इस यारह के किरदार को उन्होंने कभी नही किया लेकिन उनकी एक्टिंग बहुत जबरदस्त है सुपर 30 में

सुपर 30 के अंदर ह्रितिक रोशन में कुछ बनने और बनाने के लिए बहुत जुनून दिखाया गया है जो पहले मेने किसी भी फ़िल्म में नही देखा।

सुपर 30 के पहले सीन से लेकर आखिरी सीन तक रोमांच भरा हुआ है।

अब छलांग लगाने का वक़्त आ गया है – इस लाइन अर्थ है बहुत समय से हम सभी तैयारी कर रहे है परंतु अब तैयारी का वक़्त नही अब कुछ कर दिखाने का वक़्त है कुछ बड़ा , कुछ बेहतर ओर लोगो से एक लंबी छलांग लगाने का वक़्त है।

परिस्थितियां जो हमे बहुत कुछ ऐसा करने पर मजबूर कर देती है जो हम कभी नही करना चाहते।

आनंद कुमार जो किसी भी चीज़ को आसानी से सुलझा सकते थे और किसी भी आसान चीज़ को आसानी से उलझा भी सकते थे।

जिंदगी ? Mark की तरह है जिंदगी से सवाल पूछते जाओ और जिंदगी जवाब देती जाएगी।

आपके अंदर सीखने की भूख होनी चाहिए फिर आप कही से भी कैसे भी सीख सकते है

यदि आपके मन में कोई प्रश्न है तो उसका उत्तर अवश्य मिलेगा बस यह आपके जानने की ललक पर निर्भर करता है

सफलता किसी की जात पात नही पूछती वह उसीके पास आती है जो उसके काबिल होता है।

सफलता को प्राप्त करना यह हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है।

हर उस घटना से सीखा से जा सकता है जो आपके आसपास हो रही है।

जादू कही और नही है जादू सिर्फ हमारी सोच में है।

हौसले बुलंद होने चाहिए फिर कुछ भी नामुमकिन नही है।

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *