जानने के लिए कुछ नही, बताने में जिंदगी बीत जाए शब्दो मे क्या बयान करू? ये जिंदगी किसकी और कौन इसको है जान पाए जो शब्दो से शब्द को पहचानना चाहे वो तो शब्दों में ही कही गुम हो जाये