Blog

अच्छे विचार

अच्छे विचारो में होती ताकत खुशियां होती उनकी परछाई ….
सोचो और जीयो अच्छे विचारो को सबका जीवन हो सुखदाई….


अच्छे ओर सच्चे विचारों की ऊर्जा भी होती निश्छल निकपट….
खुशियां जो जन्मती इनसे जीवनों में होती चमत्कार की आहट ।

बहाने मत बनाओ

हम सभी कुछ ना करने ओर होने के बस बहाने ढूंढ़ते है लेकिन उन बहानो से नुकसान हमारा ही होता है कुछ ना होना चल सकता लेकिन उस चीज के लिए तुमने यदि प्रयास ही नहीं किया तो यह ग़लत है यह तो भागना हो गया।

किसी भी कार्य में सफलता को पाने के लिए उसमे मेहनत ओर लगातार कार्य करना पड़ता है तभी वह कार्य परिणाम ओर सफलता का रूप लेती है।

क्या आप बहुत सारे बहानों के साथ सफल हो सकते है ?

यदि सचिन तेंदुलकर , लता मंगेश्कर आदि महान लोग बहाने बनाते तो क्या आज वो इस मुकाम को हासिल कर पाते।

Corona काल सभी के लिए आया है लेकिन क्या आप इस समय का सदुपयोग कर पा रहे है ? या फिर आप के पास बहुत सारे बहाने है कि हम क्या कर सकते है घर बैठकर

घर बैठकर भी बहुत कुछ एसा है को आप ही कर सकते है कोई ओर नहीं क्युकी जिंदगी में अच्छी आदतों का चुनाव आपको ही करना है

यही समय है जब आपको अपने लक्ष्यों का निर्धारण करना है

1- अपने पुरानी आदतों को बदल कर नया रूप देना

2- अच्छे विचारो का संग्रह करना है

3- आपके जीवन का क्या लक्ष्य है आपको जानना है

4- आप क्या बनना चाहते है यह आपको ही सोचना है

5- पिछले बीते हुए समय में हमसे कहां गलतियां हुई है उनको समझना है।

6- अपने समय को ओर बर्बाद नहीं करना यह निश्चय करना है।

7- क्या अभी जो आप कर रहे है? वो सही है या इसमें भी कुछ बदलाव लाना है यह भी आपको ही सोचना है।

8- अगले 5-10-15-20 साल में आप अपने आपको कहा देखना चाहते है यह भी आपको ही तय करना है।

9- क्या आप अपनी विफलता को लेकर ओर भी बहाने बनाना चाहते है यह भी आपको ही तय करना है।

10- आपको क्या नया सीखना , पढ़ना , लिखना है यह भी आप ही करिए।

11- जिस कार्य में अधिक रुचि है उसको इस समय में भरपूर कर लीजिए।

जीवन में सफलता

दोस्त हंसते मुस्कुराते सदा रहे,
ख़ुशियों की सदा हवा बहे,
समस्याओं का सदा हल मिले,
जीवन में सफलता के फूल खिले ।

मन की बात

मन की बाते अब मन में ना ठहर जाए
कुछ बाहर आ जाए कुछ तुमसे कह जाए

राग कोई नया तुमसे छेड जाए
फिर बिछड़े तार , टूटे तार जुड़ जाए

उत्सुकता

जीवन को जानने के लिए हम उत्सुक है ओर हमें अपनी उत्सुकता को बढ़ाना चाहिए।

Read More

पता नहीं

पता नहीं वो कौनसे राज छिपा के बैठे है अपने सीने में जो वो हर पल मुस्कुराते ही रहते है।

ना वो हमसे कुछ कहते है ना जी जिंदगी से उदास रहते है।

पुराने विचार से बाहर आओ

उन विचारो से बाहर निकल कर देखो जिनमें उलझे हो ना जाने कितने ही जन्मों से तुम अब तो आओ बाहर यह वक़्त है कुछ कर गुजरने का , कुछ हो जाने का , खुद को जानने का , समझने का , पहचानने का

जिंदगी का आइना

अभी वक़्त है
कुछ और करने का
ना यूं लड़ने का
ना झगड़ने का
बस जिंदगी को आइना मानलो
खुदको समझने का

पछतावा

गलती जों हर कोई करता है वो गलती है घर छोड़ने की एक युवा अवस्था में बहुत सारे लोगों के मन यह ख्याल आता है कि हमें घर छोड़ कहीं वन , आश्रम , या पहाड़ों पर कहीं चले जाना चाहिए।
लेकिन क्या यह उचित है ? क्या सहज ही यह संभव है ?
हम एक बार को मां लेते है की यह संभव है परन्तु उस घर को छोड़ने का कारण ओर परिणाम कभी सोचा है ??
यह गलती 100 प्रतिशत लोग करते है जिनको अपनी भूल का पछतावा होता है ओर फिर वही साधु आपकोंथ सलाह भी देते है की संत क्यों बनना ? गृहस्थ जीवन बिताए वहीं सबसे बड़ा आश्रम है परन्तु गृहस्थ ? जरूरी नहीं कि शादी भी करो जो लोग जीवन को बांधना नहीं चाहते उन लोगो को शादी भी नहीं करनी चाहिए इस जीवन को मुक्त रखना सभी बंधनों से विचारो से , कार्यों से इसलिए में तो गृहस्थ जीवन की भी सलाह नहीं देता यदि आप घर में भी रहे तो को पहले से संबंध बन चुके है उन्हीं के साथ निर्वाह कीजिए मरा पिता , भाई बहन , बंधु बांधव रिश्तेदारों के साथ यही संबंध धीरे धीरे स्वत ही छूट जाएंगे ओर बंधन मुक्त हो जाएंगे इन्हे जबरदस्ती मत छोड़िए जबरदस्ती कुछ भी संभव नहीं है इसलिए जीवन को स्वत ही होने दीजिए।
यदि कोई आपको अब भी गृहस्थ जीवन की सलाह देता है इसका सिर्फ एक ही कारण है वह बहिर्मुखी होते है उनका अंतर्मुखी ना होना ही इस बात का पछतावा है कि उन्होंने घर क्यों छोड़ा
यह सिर्फ किसी एक व्यक्ति विशेष की व्यथा नहीं है यह उन लाखो , करोड़ों लोगों की व्यथा है जो साधु , संत बन जाते है परन्तु उनका उद्देश्य का है यह समझ नहीं पाते
बस इतना ही कारण है इसके विपरित कुछ भी नहीं
मेरे मन में भी लगातार याहिंद्वांध चलता रहता है कि घर में रहू या घर छोड़ कर भाग जाऊ
लेकिन घर छोड़कर जाना क्यों ?
सीधा ओर सरल प्रश्न जो मैंने स्वयं से हजारों , लाखो बार किया है ओर उसका उत्तर सीधा ओर सरल यही है बाहर जाकर भी कोई ना कोई कार्य इत्यादि तो करना ही पड़ेगा चाहे आप आश्रम में जाए या फिर कहीं ओर इसके विपरीत आपको  भिक्षुक भी बनना हो सकता है इस पर के निर्वाह के कारण ओर भी कई अन्य स्तिथि ओर परिस्थिति का सामना भी करना पड़ेगा।
फिर क्यों ना घर पर रहकर ही चिंतन मनन स्वयं का अध्यन किया जाए , क्यों छोड़ जाना घर को
हम इस समय जिस परिवार के साथ रहते है वह सबकुछ हमारे ही द्वारा किया गया चुनाव है फिर क्यों इस स्तिथि ओर परिस्थिति से विमुख होना

पछतावा

गलती जों हर कोई करता है वो गलती है घर छोड़ने की एक युवा अवस्था में बहुत सारे लोगों के मन यह ख्याल आता है कि हमें घर छोड़ कहीं वन , आश्रम , या पहाड़ों पर कहीं चले जाना चाहिए।
लेकिन क्या यह उचित है ? क्या सहज ही यह संभव है ?
हम एक बार को मां लेते है की यह संभव है परन्तु उस घर को छोड़ने का कारण ओर परिणाम कभी सोचा है ??
यह गलती 100 प्रतिशत लोग करते है जिनको अपनी भूल का पछतावा होता है ओर फिर वही साधु आपकोंथ सलाह भी देते है की संत क्यों बनना ? गृहस्थ जीवन बिताए वहीं सबसे बड़ा आश्रम है परन्तु गृहस्थ ? जरूरी नहीं कि शादी भी करो जो लोग जीवन को बांधना नहीं चाहते उन लोगो को शादी भी नहीं करनी चाहिए इस जीवन को मुक्त रखना सभी बंधनों से विचारो से , कार्यों से इसलिए में तो गृहस्थ जीवन की भी सलाह नहीं देता यदि आप घर में भी रहे तो को पहले से संबंध बन चुके है उन्हीं के साथ निर्वाह कीजिए मरा पिता , भाई बहन , बंधु बांधव रिश्तेदारों के साथ यही संबंध धीरे धीरे स्वत ही छूट जाएंगे ओर बंधन मुक्त हो जाएंगे इन्हे जबरदस्ती मत छोड़िए जबरदस्ती कुछ भी संभव नहीं है इसलिए जीवन को स्वत ही होने दीजिए।
यदि कोई आपको अब भी गृहस्थ जीवन की सलाह देता है इसका सिर्फ एक ही कारण है वह बहिर्मुखी होते है उनका अंतर्मुखी ना होना ही इस बात का पछतावा है कि उन्होंने घर क्यों छोड़ा
यह सिर्फ किसी एक व्यक्ति विशेष की व्यथा नहीं है यह उन लाखो , करोड़ों लोगों की व्यथा है जो साधु , संत बन जाते है परन्तु उनका उद्देश्य का है यह समझ नहीं पाते
बस इतना ही कारण है इसके विपरित कुछ भी नहीं
मेरे मन में भी लगातार याहिंद्वांध चलता रहता है कि घर में रहू या घर छोड़ कर भाग जाऊ
लेकिन घर छोड़कर जाना क्यों ?
सीधा ओर सरल प्रश्न जो मैंने स्वयं से हजारों , लाखो बार किया है ओर उसका उत्तर सीधा ओर सरल यही है बाहर जाकर भी कोई ना कोई कार्य इत्यादि तो करना ही पड़ेगा चाहे आप आश्रम में जाए या फिर कहीं ओर इसके विपरीत आपको  भिक्षुक भी बनना हो सकता है इस पर के निर्वाह के कारण ओर भी कई अन्य स्तिथि ओर परिस्थिति का सामना भी करना पड़ेगा।
फिर क्यों ना घर पर रहकर ही चिंतन मनन स्वयं का अध्यन किया जाए , क्यों छोड़ जाना घर को
हम इस समय जिस परिवार के साथ रहते है वह सबकुछ हमारे ही द्वारा किया गया चुनाव है फिर क्यों इस स्तिथि ओर परिस्थिति से विमुख होना