Posts tagged Hindi

Covidshield Vs covaccine

कौनसी vaccine अच्छी है यह भी हम सभी के मन में एक प्रश्न बना हुआ है लेकिन मै आपके लिए यह साफ कर देना चाहता हूं कि सरकार द्वारा दी जा रही दोनों ही vaccine अच्छी है जिस पर आप पूरा भरोसा करे ओर टीका लगवाए

बिना किसी बहकावे में आए जो vaccine उपलब्ध हो उसे लगवाए ओर स्वयं को सुरक्षित करें

आज 31May को मैने covidshield का टीका लगवाया…अब अगली डोज लगभग 75 दिन के बाद लगेगी ओर वह भी covidshield की ही होगी इसमें भी कुछ लोगो को गलतफहमी हो जाती है कि दूसरी डोज कोई ओर लगा सकते है लेकिन ऐसा नहीं है जो डोज आपको पहली लगी है वहीं दूसरी भी लगेगी।

अभी तक तो ना ही मुझे कजरी महसूस हो रही है ना ही कुछ ओर आपको डॉक्टर सलाह देते है अगले 5 दिनों तक आप किसी के संपर्क मे ना आए , घर से बाहर ना जाए , अल्कोहल का सेवन ना करे , सिगरेट का सेवन भी नहीं करे , अन्य कोई दवाई भी ना लेे , जिस जगह टीका लगाया गया उसे रगड़े नहीं सिर्फ रूई को वहीं पर दबाकर रखे। यदि बुखार आए तो सिर्फ paracitamol ही इसके अलवा कुछ नहीं ले

हम सभी सिर्फ यही सोचते है की टीका लगवा अब सब ठीक रहेगा मै बाहर घूमता हूं मुझे कुछ नहीं होगा लेकिन डॉक्टर ने यह सब भी बताया है उसका भी तो पालन कीजिए बेफिजूल में बाहर ना घूमिए।

मै अपना अनुभव शेयर करता हूं मुझे 1 पूरा दिन बुखार रहा ओर हाथ पैरो में तेज़ दर्द भी रहा यह एक अप्राकृतिक बुखार था जिसे एक vaccine की वजह आना हुआ अन्यथा इस बुखार का कोई मतलब नहीं हमारी जिंदगी में

दूसरों के बहकावे में ना आए अपनी अक्ल लगाए ओर टीकाकरण जल्द से जल्द कराए।

कुमति निवार सुमति के संगी

“कुमति निवार सुमति के संगी”

जब आप एकांत , ध्यान में होते है प्रकृति की छत्र छाया में होते है तब आपके भीतर बहुत सारे अच्छे विचारो का संचालन होने लगता है और तब बुरे विचारो से मुक्त होने लगने है और आप अपनी सारी दुरबुद्धी को बाहर निकाल देते है और सुमति का आचरण करते है
ऐसा ही हर जगह देखने को मिल रहा है बेशक हम सभी कुछ घबराए हुए है लेकिन घबराहट तो उस अर्जुन को भी हुई थी अर्जुन तो क्षत्रिय था तब भी वो घबराहट से भरा हुआ था
जब श्री कृष्ण ने अर्जुन को यज्ञ निहित कर्म करने को कहा था
आज हम सभी को भी प्रकृति प्रेरित कर रही है और हम भी शायद प्रेरित हो रहे है तभी हम सभी लोग सकारात्मक सोच की और बढ़ रहे है
इस मुश्किल घड़ी में , फेसबुक , वॉट्सएप, ट्विटर, आदि कहीं भी सोशल मीडिया पर इस समय कोई राजनीतिक , सामाजिक , बुरी ख़बर नहीं है ना ही कोई लड़ाई झगड़ा आदि इत्यादि है जैसा कि हम सुबह से शाम तक इतना स्क्रॉल करते है तब हमे ना जाने कितनी ही नकरात्मक खबरे पढ़ने को मिल जाती है कभी किसी को ट्रोल करते है तो कभी किसी गालियां देते है परन्तु आज हम सभी एक दूसरे सिर्फ यही कह रहे है “घर में रहिए कुछ ना करिए”
अब हमारी
सिर्फ एक यही कोशिश है Corona को हराने की जिस पर हम जीत जरूर हासिल करेंगे

हमारे विचार आचरण सभी शुद्ध हो रहे है इससे तात्पर्य यह की प्रकृति अपने ऊपर से एक परत,एक आवरण हटा रही है
जो तामसिक परत है उसे हटाकर सात्विकता की और बढ़ रही है मांस खाने से लोग घबरा रहे है , जीवो के बारे में लोग सोच रहे है यही सुमति है , यही सुविचार है, कुमति से मुक्ति है , बुरे विचारों से दूर होना है और अच्छे विचारो का समावेश करना है।
प्रकृति के संदेश को कभी भी नजरअंदाज ना करे प्रकृति के साथ सदैव जुड़े रहे।

Rohitshabd