खुशियां

खुशियां का न तो कोई गंतव्य ,अधिकार कमाई, न इसे पहने न ही ये भोजन…..
ये एक आध्यात्मिक अनुभव जीवन के हर क्षण में प्रेम कृपा का आभार में लिप्त मन ।


कृपा ओर आभार से लिप्त मन सब के लिए शुभ ओर हितकारी…..
व्यक्ति विकास से होगा समाज का विकास मनुष्यता के लिए श्रेष्ठ शुभकारी ।

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *